किसानो के लिए मटर की खेती दे सकती है मोटा मुनाफा 2023 में

2023 में किसानों के लिए खेती करना दिन-प्रतिदिन कठिन होता जा रहा है क्योंकि हमारा पर्यावरण स्वच्छ नहीं होने के कारण मौसम में बदलाव की संभावना बढ़ती जा रही है। अगर आप किसान हैं तो आप भी मोटा मुनाफा कमा सकते हैं. इसके लिए आपको कुछ स्टेप्स फॉलो करने होंगे

मटर की खेती

मटर की खेती में किसानों को कैसे मिलेगा मोटा मुनाफा?

मटर की खेती: मटर की खेती करने के लिए आपको कुछ आसान तरीकों को अपनाना होगा, नीचे दिए गए चरण देखें।

1. बीज का चयन :

बीज का चयन
  • कृषि उत्पादन बढ़ाने में बीज सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। अधिक उत्पादन देने वाली उन्नत किस्मों के उच्च गुणवत्ता वाले बीजों से उत्पादकता को बीस से तीन प्रतिशत तक बढ़ाया जा सकता है।
  • स्थानीय जलवायु और मिट्टी के अनुसार बीज का चयन करें. ।

2. बुआई और रोपण

  • इसकी खेती के लिए मटियार दोमट और दोमट भूमि सबसे उपयुक्त होती है। जिसका पीएच मान 6-7.5 होना चाहिए। इसकी खेती के लिए अम्लीय भूमि सब्जी वाली मटर की खेती के लिए बिल्कुल उपयुक्त नहीं मानी जाती है मटर की बुवाई का सही समय इसकी खेती के लिए अक्टूबर-नवंबर माह का समय उपयुक्त होता है।
  • पौधों को ठीक से उगाएं और उन्हें पूरी तरह सुरक्षित रखें।

3. उर्वरक एवं पोषण:

  • मटर की खेती के लिए उर्वरक – मटर में सामान्यतः 20 किलोग्राम नाइट्रोजन तथा 60 किलोग्राम नाइट्रोजन। बुआई के समय फास्फोरस देना पर्याप्त है। और इसके लिए भी 100-125 किग्रा. डायअमोनियम फॉस्फेट प्रति हेक्टेयर दिया जा सकता है, यह इसके लिए बहुत अच्छा है.

4. बाजार का अध्ययन:

  • आपको अपने स्थानीय बाजार का ठीक से अध्ययन करना चाहिए ताकि आप आसानी से बाजार के अनुसार उत्पादन कर सकें और उसका उचित मूल्य प्राप्त कर सकें।

5. एक नज़र देखना

  • सही समय पर बुआई, कटाई और दवाइयों का छिड़काव करने से आपकी फसल की मात्रा भी बढ़ती है और आपको उचित दाम भी मिल सकता है।

किसानों द्वारा पूछे गए प्रश्न

मटर की अच्छी पैदावार के लिए क्या करें?

मटर की अच्छी पैदावार के लिए सबसे पहले आपको अपने खेत की अच्छे से जुताई करनी चाहिए और उसे मटर के बीज के लायक बनाने के लिए 2-3 बार हैरो करनी चाहिए ताकि उसमें मटर की अच्छी फसल पैदा हो सके और इस बात का ध्यान आपको जरूर रखना चाहिए। अच्छे अंकुरण के लिए मिट्टी में नमी होनी चाहिए.

मटर की खेती में कौन सा उर्वरक प्रयोग करना चाहिए?

मटर की खेती में सबसे ज्यादा फसल का नुकसान पानी और उर्वरक के कारण होता है. आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि इसमें पानी और उर्वरक पर्याप्त मात्रा में होना चाहिए और अधिक उपज पाने के लिए इसमें नाइट्रोजन और फास्फोरस का प्रयोग करें.


मटर कितने दिन में फल देता है?

मटर के बीज बोने के बाद 130 से 140 दिनों के बाद यह कटाई के लायक हो जाती है, तो आप इससे अंदाजा लगा सकते हैं कि एक मटर में फल आने में कितने दिन लगते हैं।

यदि आपके पास मटर की खेती के संबंध में कोई और प्रश्न है, तो आप हमसे संपर्क कर सकते हैं। हमारी टीम इसे जल्द से जल्द सुलझाने की कोशिश करेगी.

साथ ही अगर आप | गेहूं | ट्रैक्टर | फसल | के बारे में जानना चाहते हैं तो इस पर क्लिक करके जान सकते हैं।

Leave a Comment

ट्रेक्टर से फसलों की कटाई करना