गेहूँ इतना लोकप्रिय क्यों है?

गेहूँ इतना लोकप्रिय क्यों है आप सभी जानते है की भारत में गेहूँ (Wheat) प्रमुख फसल हैं और ये एक पौष्टिक अनाज है और इसका उपयोग भोजन में कई रूपों में होता है | भारत में गेहू की खेती व्यापक रूप से देशभर में की जाती है। गेहूं भारत का मुख्य खाद्यान्न है और इसे अधिकांशत: उत्तर भारतीय राज्यों, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्य प्रदेश, और महाराष्ट्र होता है इसके अलावा गेंहू की कई अन्य किस्में भी उगाई जाती है जैसे कि दुर्गम एवं उच्च ऊर्जा युक्त गेहूं जो कच्छ, गुजरात, और राजस्थान के समान क्षेत्रों में बढ़ाई जाती हैं। आइये अब हम जानते है की गेहूँ इतना लोकप्रिय क्यों है

गेहूँ इतना लोकप्रिय क्यों है

गेहूँ के लोकप्रिय होने के बहुत सारे कारण है निचे उन्ही कारणों को बताया गया है

गेहूँ इतना लोकप्रिय क्यों है?

गेहूँ की उगाई की चरणों

यहां गेहूँ की उगाई की चरणों की जानकारी है:

बोए जाने वाले बीज़ (सीड्स): गेहूँ की बोई जाने वाली बीजें अक्टूबर से नवम्बर महीने में बोई जाती हैं। बोई जाने वाले बीजों को मिट्टी में अंकुरित किया जाता है जिससे पौधा उत्पन्न होता है और उसमे पानी की मात्रा दी जाती है ये निर्भर आपर है की आप कितना खेतो में गेहूँ को बोना चाहते है उसके हिसाब से आप सीड्स को बोये

अंकुरण (Germination): बोए जाने वाले बीजों को उस जमीन में बोने जाने के बाद, अंकुरण होता है और एक छोटे से पौधे का निर्माण होता है।

पौधा (Seedling): अंकुरित बीज से उत्पन्न होने वाला पौधा मुख्य रूप से हरे रंग का होता है और धीरे-धीरे बढ़ता है। इस समय आपको ये ख़ास धयान रखना होता है पोधो का

पौधों का बढ़ना (Vegetative Growth): उसके बाद, पौधों का विकास और बढ़ना होता है जिसमें वे ऊपर की ओर बढ़ते हैं

धान (Ear Formation): पौधों के ऊपर धान उत्पन्न होता है जिसमें बीजें बनती हैं। इसके बाद गेहूँ पूरी तरह से पूर्ण होने के लिए तैयार हो जाती है और उगाई जा सकती है।

गेहूँ की कटाई (Harvesting): गेहूँ की कटाई अप्रैल से मई महीने में होती है, जब धान स्वरूपी होता है और पूरी तरह से पूर्ण हो जाता है। इसके बाद, किसान गेहूँ की कटाई करके उसे सुरक्षित स्थान पर रखता है।

सरकारी गेहूं का रेट क्या है?

जैसा की आप सभी जानते होंगे की हर साल इसके दाम में उतार चढ़ाव होता है मार्केटिंग ईयर 2023-24 (अप्रैल-मार्च) के लिए गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य 2,125 रुपये प्रति क्विंटल है। मार्केटिंग ईयर 2024-25 के लिए गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) 150 रुपये बढ़ाकर 2,275 रुपये प्रति क्विंटल हो गया है। केंद्रीय मंत्रिनमंडल ने बुधवार को इस पर अपनी मुहर लगा दी।

गेहूं का जनक कौन है?

जैसा की आप सभी जानते होंगे की भारत लाखों गाँवों का देश है और यहाँ की अधिकांश जनता कृषि के साथ जुड़ी हुई है। इसके बावजूद अनेक वर्षों तक यहाँ कृषि से सम्बंधित जनता भी भुखमरी के कगार पर अपना जीवन बिताती रही। उन्ही गाँव में से एक कुंबकोनाम, तमिलनाडु नाम की जगह है और वहाँ 7 अगस्त 1925 को एम. एस. स्वामीनाथन का जन्म हुवा जो वे पहले व्यक्ति थे, जिन्होंने सबसे पहले गेहूँ की एक बेहतरीन किस्म को पहचाना और स्वीकार किया।

भारत में गेहूँ कहाँ उगाया जाता है?

भारत में उत्तरप्रदेश, पंजाब, हरियाणा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, गुजरात और बिहार प्रमुख गेहूं उत्पादक राज्य हैं जो भारत में गेहूँ सबसे ज्यादा उत्पादक राज्य है

शरबती गेहू को द गोल्डन ग्रेन भी कहा जाता है, क्योकि इसका रंग सुनहरा होता है यह हथेली पर भारी लगता है और इसका स्वाद मीठा होता है और ये ही सबसे ज्यादा महंगा गेहू है इसलिए इसका नाम शरबती है।

इन्हे भी पढ़े: भारत में कितने प्रकार के फसल होता है 2023 ?

जैसे की आप सभी जानते होंगे की गेहू की सारी प्रक्रिया दी हुयी है ऐसे ही और पोस्ट पाने की लिए हमें फॉलो जारी

Leave a Comment

ट्रेक्टर से फसलों की कटाई करना